Is R K Sinha Taking The Place Of Shatrughan Sinha

क्या शत्रुघन सिन्हा की जगह ले रहे है "आर के सिन्हा"?


पटना : फैसला तो 2019 में होगा . लेकिन तैयारी अभी से शुरु हो गई है . बात पटना साहिब लोक सभा क्षेत्र में फैलने लगी है . सबों को पता है कि वर्तमान सांसद शत्रुघ्न सिन्हा भाजपा से बेपटरी चल रहे हैं . बिहार भाजपा उन्हें अब नोटिस भी नहीं के बराबर करती है . प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय पिछले दिनों बोल गये थे,बिहारी बाबू पर कार्रवाई हो सकती है! .

उत्तर प्रदेश के चुनाव के अंतिम चरण में जब प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने बनारस में मेगा रोड शो किया, तब भी शत्रुध्न सिन्हा ने औचित्य पर सवाल पैदा कर दिया था . दूसरी बात है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की विशाल जीत के बाद वे बैकफुट पर आ गये थे . भाजपा का केन्द्रीय नेतृत्व सिन्हा के प्रत्येक मूवमेंट को नोटिस करता रहा है!

 Shatrughan Sinha

शत्रुघ्न सिन्हा अपने संसदीय क्षेत्र में भले ही कम आते हों,पर कभी नीतीश कुमार तो कभी लालू प्रसाद के कारण चर्चा में जरुर आ जाते हैं . वे यह सब जानते हुए भी करते हैं कि भाजपा को ऐसे भेंट-मुलाकात/प्रशंसा के बोल अच्छे नहीं लगते .

.बिहार भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पार्टी के भीतर उनके लिए स्पेस कम ही बचा है . इस स्थिति के लिए जिम्मेवार भी वे स्वयं हैं . सिन्हा को लेकर भाजपा के भीतर किचकिच है,तो इसी बीच आर के सिन्हा की सक्रियता पटना साहिब लोक सभा क्षेत्र में अचानक बढ़ गई है . सिन्हा राज्य सभा के सांसद हैं और आरएसएस के करीब भी . भाजपा ने आर के सिन्हा को अप्रैल 2014 में राज्य सभा भेजा था . ऐसे में,उनका कार्यकाल 9 अप्रैल 2020 तक है . आशय यह कि वे राज्य सभा में रहते पटना साहिब से लोक सभा चुनाव लड़ सकते हैं,बशर्ते हालात आज जैसे हों और भाजपा टिकट दे! .

 R K SINHA

आर. के. सिन्हा पटना साहिब लोक सभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने को इच्छुक पिछले कई चुनावों से रहे हैं . सदैव भाजपा में रहे . चुनाव लड़ने-लड़ाने की सभी व्यवस्थाओं में सक्षम हैं . देश की सबसे बड़ी निजी सिक्यूरिटी एजेंसी एसआईएस के सर्वेसर्वा हैं . अभी हाल में ही समाचार एजेंसी ‘हिन्दुस्थान समाचार’ का टेकओवर किया है . टेकओवर के बाद से ही विस्तार में लगे हैं . ‘हिन्दुस्थान समाचार’ की चर्चा मीडिया इंडस्ट्री में होने लगी है .

आर. के. सिन्हा पटना साहिब लोक सभा क्षेत्र को लेकर कितने गंभीर हैं,इसे सबों ने उनके ‘होली मिलन’ समारोह में नोटिस कर लिया था . होली मिलन का आयोजन पिछले दिनों पटना में किया गया था . वे मिलन समारोह प्रतिवर्ष करते रहे हैं . लेकिन इस साल आयोजन के केन्द्र में पटना साहिब लोक सभा क्षेत्र था . होली मिलन समारोह का न्योता पूरे क्षेत्र में बंटा . होर्डिंग-बैनर भी लगे . न्योता कबूल भाजपा काडर बड़ी संख्या में पहुंचा . आपस में सभी गपियाते रहे कि ऐसा सम्मान तो कार्यकर्ताओं को शत्रुघ्न सिन्हा ने कभी नहीं दिया . वैसे भी यह देखने को अब बराबर मिल रहा है कि जैसे ही भाजपा के लिए जश्न का कोई अवसर आता है,इनकम टैक्स गोलंबर पर आर के सिन्हा की सबसे बड़ी होर्डिंग तुंरत लग जाती है!.

भाजपा की राजनैतिक चर्चा के बीच यह बात भी ध्यान देने की है कि 2018 में बिहार से भाजपा के राज्य सभा सदस्य धर्मेन्द्र प्रधान और रविशंकर सिन्हा का कार्यकाल खत्म हो रहा है . दोनों केन्द्र में मंत्री हैं . बिहार विधान सभा में भाजपा सदस्यों का जो संख्या बल है,उसमें सिर्फ एक को ही फिर से राज्य सभा में भेजा जा सकता है . ऐसे में,क्या होगा,यह भी भाजपा के भीतर ही जानने को लोग इच्छुक रहते हैं

इन भेंट-मुलाकात से यह भी खबर फैल जाती है कि 2019 में सिन्हा महागठबंधन की पसंद हो सकते हैं !




For More updates visit us on:

http://dardedastan.blogspot.in/
Mail us on: Chandan.bhabua@gmail.com